See all those languages up there? We translate Global Voices stories to make the world's citizen media available to everyone.

कहांनियाँ परिचय South Asia

16 अप्रील 2009

आम चुनाव 2009: कुछ तथ्य, कुछ मिथक

16 अप्रेल 2009 को, भारत में आम चुनाव के पहले दौर की शुरुवात होगी और यह सिलिसिला 13 मई, 2009 तक चलेगा। 1947 में प्राप्त...

15 अप्रील 2009

भारतीय चुनावों में सेलिब्रिटी शक्ति

बॉलीवुड सुपरस्टार सलमान खान मुम्बई की एक रैली में काँग्रेस के उम्मीदवार मिलिंद देवरा के लिये चुनाव प्रचार करते हुयेचित्र: अल ज़जीरा, क्रियेटिव कॉमंस लायसेंस...

14 अप्रील 2009

आम चुनावों में लगी जनता की पैनी नज़र

हम जिस युग में रह रहे हैं वहाँ जानकारियों का अतिभार है। ज्यों ज्यों नवीन मीडिया औजार ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंच बना रहे...

14 अक्टूबर 2008

भारत : वीडियो स्वयंसेवकों के जरिए सामुदायिक पत्रकारिता

भारत के गांवों और झुग्गी झोपड़ियों में रहने वालों की एक गैरलाभकारी संस्था ‘वीडियो स्वयंसेवक’ (वीडियो वालंटियर्स) है. यह संस्था उस तरह की वीडियो सामग्री...

30 सितम्बर 2008

पाकिस्तान : जरदारी के फ्लर्ट पर चिट्ठाकारों का रिएक्शन

पाकिस्तान के राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी हाल ही में न्यूयॉर्क में अमरीका की उप-राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार सारा पालिन से जब  मिले तो उन्होंने बातचीत...

12 अगस्त 2008

क्या बांग्लादेश समुद्र में डूबने वाला है?

वातावरण परिवर्तन के दुष्प्रभावों से सर्वाधिक पीड़ित होने वाले राष्ट्रों में बांग्लादेश का नाम सबसे पहले आता है. नदी के डेल्टा में स्थित होने के...

29 जुलाई 2008

एड्स : 17 वां अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन – वीडियो आमंत्रण

Image by Robert Miller used under cc license.मेक्सिको सिटी में 3 से 8 अगस्त के दौरान सत्रहवां अंतर्राष्ट्रीय एड्स सम्मेलन होने जा रहा है. इस...

27 जुलाई 2008

भारतः रंगमंच का जादू

पूरे सप्ताह अपने काम में बेहद व्यस्त रहने वाले कुछ आईटी कर्मियों ने सप्ताहांत के दौरान भी व्यस्त रहने का काम खोज लिया है। उन्हें...

22 जुलाई 2008

भारत : क्या एचआईवी जाँच जरूरी होनी चाहिए?

एचआईवी संक्रमण फैलने की दर में कमी लाने की कोशिशों के तहत महाराष्ट्र सरकार ने साल के शुरूआत में एक विवादास्पद प्रस्ताव दिया जिसके तहत...

11 जून 2008

भारत : चिट्ठा चोरी के बाद धमकी, धौंसपट्टी और सीनाजोरी

जाल जगत् में चिट्ठाकार एक तरह से असुरक्षित ही बने रहते हैं. अनाम या छद्म नामधारी होने के बावजूद मिलने वाली धमकियाँ ये सिद्ध करती...